26.8 C
Dehradun
Thursday, September 29, 2022
लेख Happy Diwali 2020: जानिए दिवाली धनतेरस और लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त

Happy Diwali 2020: जानिए दिवाली धनतेरस और लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त

सभी सम्मानित महानुभावों का सादर अभिवादन। कार्तिक मास में सम्मुख सम्प्राप्त दीपावली के पावन पर्व की सभी को बहुत-बहुत शुभ शुभकामनाएं। आप सभी को शास्त्र सम्मत विधि से यह अवगत कराना है की धन्वंतरि त्रयोदशी अर्थात धनतेरस का पर्व कल दिनांक 13 नवंबर 2020 को ही संपादित किया जाएगा। क्योंकि आज दिनांक 12 नवंबर उदय से लेकर अस्त एवं रात्रि पर्यंत द्वादशी तिथि ही व्याप्त है। कल अर्थात 13 नवंबर को प्रातः काल से शाम 6:00 बजे पर्यंत त्रयोदशी तिथि रहेगी इसी मध्य में धनतेरस का पर्व सुनिश्चित है।सांय 6:00 बजे के पश्चात चतुर्दशी प्रारंभ होगी इसलिए छोटी दीपावली भी कल ही मनाई जाएगी। क्योंकि पूर्वाग्रह के कारण बहुत सारे लोगों को आज ही धनतेरस होने का संशय है और शुभकामना संदेश भी प्राप्त हो रहे हैं। अस्तु धनतेरस का मुहूर्त प्रेषित किया जा रहा है जिससे सभी के संशय का निवारण हो सके।..चूंकि देव दानव के संग्राम के समय ही समुद्र मंथन में समुद्र से भगवान धन्वंतरि त्रयोदशी के दिन ही अमृत का कलश लेकर प्रकट हुए उसी प्रकार 14 रत्न तथा अमावस्या के दिवस महालक्ष्मी प्रकट हुई जो दीपावली के रूप में मनाया जाता है। धनतेरस के दिवस भगवान धन्वंतरि तथा कुबेर एवं लक्ष्मी का पूजन किया जाता है।इसी क्रम में प्राप्त चतुर्दशी के दिवस मृत्यु के देवता यम को प्रसन्न करने हेतु अकाल मृत्यु के भय से मुक्त होने तथा जीवन में विभिन्न प्रकार की दुर्घटनाओं के शमन हेतु यम का पूजन तथा संध्या काल में घर के बाहर दीपक जला कर रखा जाता है।अनंतर अमावस्या के दिवस दीपावली महापर्व पर महालक्ष्मी का पूजन किया जाता है।

धनतेरस शुक्रवार दिनांक 13 नवंबर

पूजन मुहूर्त

1 – प्रातः 6:46 से 10:31 बजे तक.
2 – मध्यान्ह 12:00 से 2:50 तक.
3 – सायं 3:40 से 6 बजे तक।
4 – दीप प्रज्वलन सायं 6:00 बजे के पश्चात।

दिनांक 14 नवंबर 2020

1-अभिजित मुहूर्त दोपहर 11:45 से 12:30 तक।
2-महालक्ष्मी पूजन मुहूर्त समय 5:15 से रात्रि 8:00 बजे तक।
3-महा अनिश्चितकाल रात्रि 11:30 से 12:25 तक।

डॉ0 कुलदीप चंद्र पंत, हरिद्वार
साहित्य विभागाध्यक्ष | जय भारत साधु महाविद्यालय, हरिद्वार | पी.एच.डी.: ‘श्रीमद् भागवत महापुराण में प्रतिपादित दार्शनिक सिद्धांत’

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Posts

खतरों की आहट – हिंदी व्यंग्य

कहते हैं भीड़ में बुद्धि नहीं होती। जनता जब सड़क पर उतर कर भीड़ बन जाये तो उसकी रही सही बुद्धि भी चली जाती...

नतमस्तक – हिंदी व्यंग्य

अपनी सरकारों की चुस्त कार्यप्रणाली को देख कर एक विज्ञापन की याद आ जाती है, जिसमें बिस्किट के स्वाद में तल्लीन एक कम्पनी मालिक...

कुम्भ महापर्व 2021 हरिद्वार

कुंभ महापर्व भारत की समग्र संस्कृति एवं सभ्यता का अनुपम दृश्य है। यह मानव समुदाय का प्रवाह विशेष है। कुंभ का अभिप्राय अमृत कुंभ...

तक्र (मट्ठे) के गुण, छाछ के फायदे

निरोगता रखने वाले खाद्य-पेय पदार्थों में तक्र (मट्ठा) कितना उपयोगी है इसको सभी जानते हैं। यह स्वादिष्ट, सुपाच्य, बल, ओज को बढ़ाने वाला एवं...

महा औषधि पंचगव्य

‘धर्मार्थ काममोक्षणामारोण्यं मूलमुन्तमम्’ इस शास्त्रोक्त कथन के अनुसार धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष हेतु आरोग्य सम्पन्न शरीर की आवश्यकता होती है। पंचगव्य एक ऐसा...