19.1 C
Dehradun
Thursday, December 1, 2022
Home कविता और ग़ज़ल हिंदी कविता

हिंदी कविता

रैलियों की धूम

कहीं थू-थू की रैली है, कहीं धिक्कार की रैली कहीं त्रिशूल दिखते हैं, कहीं तलवार की रैली सियासत में प्रदूषण है, विचार गंगा ही मैली है चलो...

एक लड़की की लिखी कविता

किताबों के पन्नों में कविताएं जैसे दबा हो किताबों के बीच एक फूल, किसी के लिए नहीं उसकी सुगन्ध, उसके सौंदर्य का कोई अस्तित्व नहीं। चलो मैं तुम्हें...

व्यथित क्यों हो तुम?

मेरा दिल डर रहा है, ये भयानक आवाजें न निकालो इस भयानक रात में, इस बरसात में, यूं झगड़कर, यूं रगड़कर किसे डरा रहे हो, शायद तुम...

शैल-शिशु

पत्थर से उपजा उसका बचपन विकटता को चीर पल्लवित हुआ जिसका यौवन, यौवन जो बिता न पाया अपने पल, अधेड़ हुआ मन पत्थर से उपजा उसका बचपन जिजीविषा...

नेता बन जा

पढ़ना-लिखना डिग्री डिप्लोमा सब कुछ है बेकार। कभी न दे पायेंगे भैय्या ये तुझे रोजगार।। जूते चप्पल तो क्या एड़ियां भी घिस जायेंगी। धोती-कुरता पैंट क्या लंगोट...

एक तुम – हिंदी कविता

एक तुम, मेरे प्राणों में क्या जगी, टूट गए अवरोध सारे। बह गया भेद मझधार और किनारों का, डूब गया अन्तर रोशनी के सैलाब में, सूरज और तारों का। आभासित...

जीवन का अर्थ

ऐसा कुछ काम करो, अच्छा अंजाम हो, जीवन सफल बने जग में कुछ नाम हो। यहां लालच की डोर पर उलझा इन्सान है, स्वार्थों के दल-दल में...

सलाम लोकतंत्र – नहीं फरक अब गांव शहर में दोनों का है बुरा हाल

नहीं  फरक  अब  गांव  शहर  में  दोनों  का  है  बुरा  हाल दरियादिल  की  बात  नहीं  अब  गांव  हुए  कंगाल घर-घर हिंसा तू तू मैं मैं घृणा...

सच बोलें तो दुनिया रुठे

सच बोलें तो दुनिया रूठे, झूठ कहें तो राम, सतपथ के अनुगामी का यहां जीना हुआ हराम।     सच बोलें तो दुनिया कहती यह अनपढ़, पागल है,     झूठ...

दे दो छूट जवानों को

दे दो छूट जवानों को तुम, कार्गिल के मस्तानों को। देश के इन दीवानों को, दुश्मन का नाम मिटाने को।। अब न सहेंगे अब न रुकेंगे,...

आकांक्षा – जात-पात में मत पड़ो, वर्ण भेद भेद दो

जात-पात में मत पड़ो, वर्ण भेद भेद दो, मनुष्य मात्र एक हो, न किसी में कोई भेद हो। जाति-धर्म भिन्न-भिन्न खान-पान भिन्न-भिन्न। भिन्नता में एकता, हो कर्म...

मनमोहनी माया – अनपढ़ गंवार थे वो सन्त कबीरा

अनपढ़ गंवार थे वो सन्त कबीरा जो कहे माया बड़ी ठगनि हम जानी दौलत तेरी बस एक लंगोटी अरे फकीरा, देखा तूने बन्द कमरों में हीरे मोतियों...

Recent Stories